News

अब सिंह का युवा जाेड़ा बिलासपुर के कानन पेंडारी चिड़ियाघर से आएगा

गुजरात के जूनागढ़ चिड़ियाघर ने वन विहार काे सिंह का जाे जाेड़ा देने के लिए रखा था वह बूढ़ा और बीमार था। दाे युवा टाइगर, चार चीतल अाैर दाे काले हिरण के बदले गुजरात बूढ़े सिंह दे रहा था। वन विहार प्रबंधन ने इन्हें लेने से इनकार कर दिया। अब सिंह का युवा जाेड़ा बिलासपुर के कानन पेंडारी चिड़ियाघर से आएगा। नर और मादा सिंह एक ही मां की संतान हैं। 


केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण के निर्देश के बाद एनिमल एक्सचेंज कार्यक्रम के तहत गुजरात, मप्र काे ऐसे सिंह दे रहा था, जाे यहां अाने के बाद ज्यादा दिन जीवित रहता। गुजरात एेसा पहली बार नहीं कर रहा है। इसके पहले भी उसने वन विहार काे तीन बार एनिमल एक्सचेंज के तहत सिंह देने का वादा िकया, लेकिन जब टीम सिंह लेने गई ताे बूढ़े और कमजोर सिंह देने की काेशिश की। वन विहार में कुल तीन सिंह बचे हैं। ये सभी अपनी अाैसत उम्र पूरे कर चुके हैं। इसमें दाे नर माेंटू और लांबा हैं और वरू मादा है। 15 अप्रैल 2017 काे असम से चार सिंह लाए गए थे। इसमें वृंदा मादा सिंह की माैत हाे गई है। 

BJ-2589 2019-12-08 17:01:52 रायपुर
  • अब सिंह का युवा जाेड़ा बिलासपुर के कानन पेंडारी चिड़ियाघर से आएगा

Related Post