News

एक ऐसा मंदिर जहां होती है नरमुखी गणेश प्रतिमा की पूजा

तमिलनाडु के तिरुवरुर जिले में कुटनूर शहर पितरों का शहर माना जाता है

आमतौर पर हर मंदिर में भगवान गणपति की गजमुखी प्रतिमा ही दिखाई देती है, लेकिन तमिलनाडु के तिलतर्पण पुरी में आदि विनायक मंदिर है, जहां गणेशजी की नरमुखी प्रतिमा के दर्शन होते हैं। 

यहां प्रचलित मान्यता के अनुसार ये एक मात्र ऐसा मंदिर है, जहां नरमुखी गणेशजी की मूर्ति स्थापित है।

 

Image result for नरमुखी गणेश प्रतिमा की पूजा

इस शहर का नाम तिलतर्पण पुरी है और ये पितरों को समर्पित है। यहां दूर-दूर से लोग श्राद्ध कर्म और तर्पण करने आते हैं। पितरों के लिए ही तिल तर्पण किया जाता है। तिलतर्पण पुरी शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है, पहला- तिलतर्पण और दूसरा पुरी। तिलतर्पण का अर्थ होता है- पूर्वजों को तिल चढ़ाना और पुरी का अर्थ है- शहर, यानी ये शहर पूर्वजों को समर्पित है।

Image result for नरमुखी गणेश प्रतिमा की पूजा

तमिलनाडु के तिरुवरुर जिले में कुटनूर शहर है। ये तिरुवरुर से 25 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। तमिलनाडु में देवी सरस्वती का एकमात्र मंदिर कूटनूर में है। कूटनूर से करीब 3 किमी दूर तिलतर्पण पुरी स्थित है। इस शहर में आदि विनायक मंदिर है। यहां पर पितृ दोष की शांति के लिए पूजा विशेष रूप से की जाती है। यहां भगवान शिव का भी मंदिर है।

BJ-2589 2019-12-10 11:12:41 none
  • एक ऐसा मंदिर जहां होती है नरमुखी गणेश प्रतिमा की पूजा

Related Post